शिशु भारती स्कूल की बच्चियों द्वारा पदाधिकारियों,समाजसेवियों की कलाइयों पर बांधी रक्षासूत्र

फारबिसगंज ।

भाई बहन का अटूट पर्व रक्षाबंधन हर वर्ष की भाँति इस वर्ष भी काफ़ी हर्षोल्लासपूर्वक फ़ारबिसगंज में मनाया गया। फ़ारबिसगंज में अपनी सेवा दे रहे तमाम वरीय पदाधिकारी एवं जवानों के साथ रक्षाबंधन का त्योहार मनाने की परम्परा है जिसको आगे बढ़ाते हुए स्थानीय शिशु भारती स्कूल की बच्चियों द्वारा शुक्रवार को अनुमंडल पदाधिकारी फ़ारबिसगंज सुरेंद्र कुमार अलबेला, अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी रामपुकार सिंह, थानाध्यक्ष फ़ारबिसगंज निर्मल कुमार यादवेंदु, दधीचि देहदान समिति के ज़िलाध्यक्ष अजातशत्रु अग्रवाल, मारवाड़ी युवा मंच के अध्यक्ष ई. आयुष अग्रवाल, जागरण कल्याण भारती के अध्यक्ष संजय शर्मा व अन्य की कलाइयों पर रक्षासूत्र बाँधकर उनके उज्जवल व दीर्घायु भविष्य की कामना की।

इस अवसर पर एसडीएम श्री अलबेला में कहा कि इस परम्परा को आगे ले जाने की ज़िम्मेदारी युवा वर्ग की है और वह परम्परा में कटौती न करते हुए इसे और भी भव्य बनाने की दिशा में पहल करे। उन्होंने कहा कि वैसे तो अपनी बहनों की याद आती ही है लेकिन जब समाज की बहनें व बच्चियाँ ऐसे त्योहार पर आती हैं तो काफ़ी सुखद व अपनेपन का एहसास होता है। एसडीपीओ श्री सिंह ने कहा कि पिछले वर्ष भी समाज की बहनों द्वारा हमारी कलाईयों को रौशन किया गया था और इस बार फिर हमें अपनेपन का एहसास कराया गया है। उन्होंने हँसमुख अन्दाज़ में कहा कि सुबह से उनकी बहन से बात हो रही थी और वे उन्हें आश्वासन दे रहे थे कि समाज की बहनें आ रही है उन्हीं से बहन द्वारा भेजी गई राखी भी बँधवाऊँगा।

थानाध्यक्ष श्री यादवेंदु ने कहा कि ज़िम्मेदारियाँ हमारी भी है और ज़िम्मेदारियाँ आप सभी की भी। आपलोग काफ़ी बढ़ चढ़कर कार्य कर रहे हैं और उनके कार्यों का आकलन भी जनता द्वारा ही किया जा रहा है। सेवा में आने से पूर्व काफ़ी चीज़ों को त्यागना पड़ता है परंतु फ़ारबिसगंज की बहनें व बच्चियाँ सामाजिक कार्यों में काफ़ी सजग हैं। मौके पर मारवाड़ी युवा मंच के अध्यक्ष ई. आयुष अग्रवाल एवं शिशु भारती स्कूल के निदेशक कुणाल क़ेडिया ने संयुक्त रूप कहा कि यह परम्परा दशकों से चली आ रही है और ईश्वर के आशीर्वाद से इसमें दिन ब दिन बढ़ोतरी ही हो रही है। सामाजिक कार्य करने न सिर्फ़ इच्छाशक्ति मज़बूत होती है बल्कि अपनी ज़िम्मेदारियों का भी एहसास होता है ताकि किसी भी पल अहंकार से दूर रहा जा सके। मौक़े पर शिशु भारती स्कूल के निदेशक कुणाल क़ेडिया, प्राचार्य शशिकांत देव, शिक्षक ऐड्मिन ख़ुशी सरकार, बच्चियों में प्रीत पूगलिया, अनुष्का गुप्ता, शिवानी कुमारी, दर्शिता समदरिया, तनुश्री, भूमि जयसवाल, पायल प्रियदर्शनि, रिया भगत व अन्य शामिल रहे।

कृपया पढ़ें  सिविल सर्जन ने की स्वास्थ्य संबंधी मामलों की समीक्षा