जातिगत आंकड़ों को छिपाने का एकमात्र मकसद राजनैतिक

जातिगत आंकड़ों को छिपाने का एकमात्र मकसद राजनैतिक ही हो सकता है. एक समाचार पत्र की हेडलाइन कहती है कि सामाजिक उथल-पुथल को टालने के लिए इस डाटा को छिपाया जा रहा है. यह सुनकर ऐसा लगता है कि आंकड़े सामने आ जाने से देश में दंगे शुरू हो जाएंगे. हम सच से डरते क्यों हैं. जब हमें एससी और एसटी के आंकड़ो से कोई समस्या नहीं है तो फिर ओबीसी और उच्च वर्ग की संख्या सामने लाने से हम क्यों हिचक रहे हैं?
ओबीसी आरक्षण की नीति पर किसी ठोस फैसले के लिए इन आंकड़ो को सामने लाना जरूरी है. आज जबकि नेशनल कमिशन फॉर बैकवॉर्ड क्लासेस (एनसीबीसी) और कई राज्य कमिशन अपने नियमित सर्वे को नहीं कर रहे हैं, जिससे हमें पता चलता कि फलां जाति को ओबीसी में रहना चाहिए या नहीं. ऐसे में हमें इस गणना के डाटा की सख्त जरूरत है. हमें यह जानने की जरूरत है कि क्या राजस्थान के जाट सच में आर्थिक रूप से इतने पिछड़े हैं कि उन्हें किसी आरक्षण की जरूरत है. सवाल यह भी कि भारत में गरीबी और आर्थिक विकास जाति से इतने जुड़े हुए हैं. फिर हम सबसे बड़ी जाति समूह ओबीसी के आंकड़ो से इतना क्यों डर रहे हैं?
जब पिछली बार 2006 में हम ओबीसी आरक्षण पर राष्ट्रीय स्तर पर बहस कर रहे थे तब हमारे पास कोई आंकड़ा नहीं था. मंडल कमिशन ने 1931 की जनगणना को आधार बनाते हुए यह पाया था कि 52 प्रतिशत लोग ओबीसी वर्ग में आते हैं. इसके बाद नेशनल सैंपल सर्वे (NSSO) के एक डाटा से यह बात सामने आई कि आज करीब 41 प्रतिशत लोग ओबीसी वर्ग में शामिल हैं.
 
इस डाटा से ओबीसी वर्ग डरा हुआ नहीं हैं बल्कि उच्च वर्ग जरूर चिंतित है. जैसे ही यह मालूम होगा कि कितने ओबीसी हैं, वे पूछना शुरू करेंगे कि उन्हें आरक्षण के बराबर प्रतिनिधित्व क्यों नहीं दिया गया. अगर एससी और एसटी को उनकी जनसंख्या के अनुसार आरक्षण मिलता है तो फिर यही बात ओबीसी पर लागू क्यों नहीं होती. अब हमारे पास इन सवालों के जवाब नहीं है इसलिए आंकड़े भी जारी नहीं किए जाते. जो यह नहीं चाहते कि ओबीसी से संबंधित डाटा सार्वजनिक किए जाए उन्हें शायद डर है कि आंकड़े आने के बाद दूध का दूध और पानी का पानी हो जाएगा.

सुप्रीम कोर्ट ने भी कई बार ओबीसी की संख्या के बारे में पूछा है. लेकिन भारतीय सरकार जिसने कई दशकों के टालमटोल के बाद जातिगत गणना कराई, अब इसका खुलासा नहीं करना चाहती. अगर सरकार इसे छिपा रही है तो इसका मतलब है कि सच्चाई जरूर बेहद कड़वी होगी. सरकार हालांकि इसे ज्यादा दिनों तक नहीं छिपा सकेगी.

कृपया पढ़ें  निर्भया को याद कर महिलाओँ के लिए सुरक्षित माहौल बनाने का लिया संकल्प
पुरुष वर्चस्व की दीवार में सुराख़ करने की माँग
दिन हो या रात सुरक्षित गाँव, शहर और सड़क की माँग

प्रसिद्ध यादव