अखिल भारतीय हिंदी विकास मंच द्वारा हिंदी दिवस के अवसर पर सम्मान समारोह का आयोजन।

नरपतगंज/बबलू सिंह

अखिल भारतीय हिंदी विकास मंच द्वारा आज 14 सितम्बर 2021,मंगलवार को हिंदी दिवस के मौके पर सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। नरपतगंज प्रखंड के कुनकुन देवी प्लस टू उच्च विद्यालय फुलकाहा नवाबगंज में हिंदी विकास मंच के संस्थापक ‘कवि’ रणविजय यादव के अथक प्रयास से इस कार्यक्रम का आयोजन हुआ।
कार्यक्रम की अध्यक्षता सेवानिवृत्त शिक्षक श्री सत्य नारायण दास ने की।इस कार्यक्रम में कुनकुन देवी प्लस टू उच्च विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक मिथिलेश कुमार सहित अन्य शिक्षकों का भी काफी योगदान रहा।
कार्यक्रम की शुरुआत करीब 1:30 बजे अपराह्न सामुहिक रूप से दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया।दीप प्रज्ज्वलन के पश्चात विद्यालय की तीन छात्राओं क्रमशः दीक्षा श्री,रजनी कुमारी एवं जिया कुमारी ने स्वागतगान गाया।


माल्यार्पण कार्यक्रम में सेवानिवृत्त शिक्षक श्री सत्यनारायण दास, सेवानिवृत्त शिक्षक श्री ब्रजकिशोर राम एवं समाजसेवी श्रवण दास को माला पहनाकर स्वागत किया गया।पुनः विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक मिथिलेश कुमार ,शिक्षक ब्रजभूषण यादव,सुमन कुमार आजाद,वलिम फारूक, अखिलेश कुमार पंकज,पंकज कुमार, शिवशंकर झा,दयानंद कुमार, चंद्रकिशोर मेहता एवं पुष्पा कुमारी आदि का माला पहनाकर स्वागत किया गया।
वहीं साहित्यकारों में विद्यालय के हिंदी के शिक्षक दलीप कुमार ‘समदर्शी’ एवं निजी शिक्षक मनोज कुमार गुप्ता को शाल ओढाकर एवं सम्मान पत्र देकर सम्मानित किया गया।

कृपया पढ़ें  💐पिता का मर्म और भृम💐


विगत मैट्रिक की परीक्षा में स्कूल टॉपर रहे आशीष कुमार यादव की अनुपस्थिति में उनके पिता कुलानंद यादव को सम्मान पत्र एवं उपहार देकर सम्मानित किया गया,

जबकि छात्रों में हिंदी में सर्वाधिक 94 अंकों से उत्तीर्ण हुए चंदन कुमार यादव,पिता कपिलदेव यादव ग्राम हनुमाननगर निवासी एवं छात्राओं में हिंदी विषय में सर्वाधिक 90 अंक प्राप्त करने वाली फुलकाहा बाजार निवासी श्रवण दास की पुत्री शिवानी कुमारी को भी सम्मानित किया गया।


वहीं प्रभारी प्रधानाध्यापक मिथिलेश कुमार ने कहा कि बच्चों के उत्कृष्ट प्रदर्शन से विद्यालय के साथ-साथ समाज भी गौरवान्वित हुआ है।वहीं इस कार्यक्रम के आयोजक हिंदी विकास मंच के संस्थापक रणविजय यादव ने कहा कि इस कार्यक्रम के माध्यम से बच्चों को ध्यान देकर पढ़ाई करने और खासकर हिंदी के प्रति रूचि जागृत करने की कोशिश है,ताकि आगे भी यह सिलसिला और जोर पकड़े।