डेढ़ वर्षों से धमदाहा अनुमंडलीय अस्पताल कर्मी को वेतन नहीं मिलने से संकट की समस्या उत्पन्न होने लगा

शेयर करें

पुर्णिया  /  धमदाहा 

एक तरफ सरकार भ्रष्टाचार को जड़ से समाप्त करने के लिए अलग अलग तरह की योजना बद्ध कार्य कर रही है। दुसरी तरफ भ्रष्टाचार को पनपने के लिए सरकारी कर्मचारी को समय पर वेतन नहीं देना भ्रष्टाचार को बढ़ावा देने जैसा है। वैश्विक महामारी कोरोना वायरस जैसी संक्रमण में लोगों के जीवन रक्षा हेतु अपना जान को जोखिम में डाल कर रक्षार्थ के लिए 24 धंटों तात्पर्य रहते हो वैसे कर्मी को विगत डेढ़ वर्षों से स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारी डाक्टर एवं नर्स को वेतन नहीं मिलने से भूखमरी की संकट  उत्पन्न होने लगा है। मामला धमदाहा अनुमंडलीय अस्पताल का है विगत डेढ़ वर्षों से अस्पताल के डॉक्टर एवं नर्स को  वेतन नहीं मिलने के कारण इन कर्मीयों के सामने मकान किराया, राशन की समस्या,बच्चों की पढ़ाई लिखाई के साथ साथ कई समस्याएं उत्पन्न हो चुका है। कर्मियों द्वारा बताया गया कि वेतन की समस्या को लेकर हम लोगों ने कई बार प्रभारी से शिकायत किए लेकिन अस्पताल उपाधीक्षक डॉ जे पी पांडे के द्वारा बताया गया कि सिविल सर्जन से बात करते हैं सिविल सर्जन के द्वारा निदान किया जाएगा। शिकायत किए महिनों बीत गए आज तक वेतन का भुगतान नहीं हुआ। दर्जनों नर्सों ने बताया कि हम लोग वैश्विक महामारी कोरोना वायरस संक्रमण में परिवार को छोड़ जान को जोखिम में डालकर ड्यूटी करतें है । सरकार के निर्देशानुसार नर्स डाक्टर को अस्पताल से लेकर क्षेत्र में लोगों के घर-घर जाकर अपने कर्तव्यों का निर्वाह किए बावजूद इसके हम लोगों को समय पर वेतन नहीं मिल रहा है । जिस वजह से सामने कई समस्या उत्पन्न हो चुका है। राशन ,मकान किराया, बिजली बिल सहित कई समस्या उत्पन्न हो चुका है।
वैश्विक महामारी कोरोना में बिहार सरकार,केन्द्र सरकार निर्देश दिया था
सरकारी हो अर्ध सरकारी सभी विभागों के कर्मियों को वेतन दिया जाएगा । नर्स,डॉक्टरों द्वारा अपने कर्तव्यों का पालन जोखिम में डालकर करते हैं। बावजूद इसके स्वास्थ्य विभाग के कर्मियों के लिए समय पर वेतन नहीं मिलना एक अभिशाप बन चुका है। कर्मियों के द्वारा बताया गया कि जनवरी के अंत तक वेतन नहीं दी गई। फरवरी से हम लोग अपने कर्तव्यों का निर्वाह करने से असमर्थ हो जाएंगे । वेतन से संबंधित पुछे  जाने पर सिविल सर्जन डॉ उमेश प्रसाद नें बताया कि सरकार के द्वारा एलॉटमेंट नहीं दिया गया है जिसके कारण इन सभी कर्मियों को वेतन नहीं दिया गया है इसके लिए विभाग को पत्राचार किया गया है।

विज्ञापन